Connect with us

मनोरंजन

63 की उम्र में भी जवां अंदाज़ रखते हैं अभिनेता अनिल कपूर

Published

on

सदाबहार अभिनेता अनिलकपुर – जानिये 63 की उमर में भी हमेशा जवां रहने वाले बेहद आकर्षक व्यक्तिव के धनी युवा अनिल कपूर के बारे में एवं उनकी आने वाली फिल्म मलंग के विषय में।

अनिल कपूर का परिचय —

रजतपट के प्रसिद्ध नायकों में हमेशा जवाँ रहने वाले बेहद आकर्षक व्यक्तिव के धनी युवा कलाकार अनिल कपूर का नाम हम सभी जानते हैं एवं उनकी फिल्में भी दर्शकों के दिल पर एक अलग छाप छोड़ती है। उनके चाहने वाले दर्शक उनकी फिल्मों के दीवाने हैं। अनिल के फैन उनके चाहने वाले दर्शक अनिल कपूर की फिल्मों का बेसब्री का इन्तजार करते हैं।

63 वर्षीय अनिल कपूर सिनेमा जगत के सबसे युवा कलाकार कहे जाते हैं। अपनी फिटनेस और हमेशा जवान दिखने के कारण अनिल हमेशा चर्चा मे रहते हैं। अभी फिलहाल 24 दिसम्बर को अनिल कपूर ने अपना तरेसठवाँ जन्मदिन मनाया था। मुम्बई में उनके जन्म दिन पर रात में एक खास पार्टी रखी गयी जहाँ पर फिल्म मलंग का ट्रैलर लांच हुआ। इस अवसर पर अनिल के साथ दिशा पाटनी, आदित्य राय कपूर और निर्देशक मोहित सूरी उपस्थित थे। ट्रैलर में अनिल निगेटिव रोल में नजर आ रहे थे। मलंग की पहली तस्वीर रिलीज होते समय अनिल के लुक को भी काफी सराहना मिली

अनिल कपूर एक बेजोड़ अभिनेता —

मलंग का ट्रैलर लांच होने के बाद अनिल कपूर अपने किरदार के प्रति गम्भीर हो गये हैं। अनिल कपूर इस फिल्म में एक पुलिस अफसर की भूमिका में नजर आयेंगे। अनिल कपूर इस फिल्म में एक सनकी पुलिस अधिकारी का रोल निभा रहे हैं। इस फिल्म को ऊँचाइयों पर पहुँचाने के लिए अनिल कपुर काफी मेहनत कर रहे हैं। अनिल पुलिस अफसर के किरदार में जान डालने के लिए वजन घटाने के लिए प्रयासरत रहे। उन्होने कुछ टैटू बनवाने के साथ ही अपने बालों के लिए भी अलग लुक का अंदाज अपनाया है। अनिल कपूर के चाहने वाले बहुत से दर्शक फिल्म के रिलीज होते ही पहले शो में फिल्म देखते हैं।

मलंग फिल्म में कुणाल खेमु और अनिल कपूर महत्वपूर्ण किरदार में नजर आयेंगे। अनिल कपूर की आने वाली यह मलंग फिल्म सात फरवरी को रिलीज होगी। अनिल कपूर का जन्म प्रसिद्ध निर्माता सुरिन्द्र कपूर के यहाँ 24 दिसम्बर 1956 को तिलक नगर मुम्बई में हुआ था अनिल कपूर की माता का नाम निर्मल था। अनिल कपूर के बडे भाई बोनी कपूर प्रसिद्ध फिल्म निर्माता हैं। इनके द्वारा अनेक शानदार फिल्मों का निर्माण किया गया है।

अनिल के छोटे भाई संजय कपूर फिल्म जगत के एक अच्छे कलाकार हैं। सन 1984 में अनिल कपूर का विवाह सुश्री सुनीता जी के साथ हुआ था। सुनीता और अनिल कपूर की शादी जब हुई थी तब अनिल कपूर फिल्मी जगत में संघर्ष के कठिन दौर से गुजर रहे थे। दरअसल अनिल और सुनीता का लव मैरिज हुई थी।

अनिल कपूर की प्रेम कहानी —

अनिल और सुनीता के मिलने की कहानी भी बडी दिलचस्प है। शादी से पहले दस सालों तक उन दोनों का अफेयर चलता रहा था। बात उन दिनों की है जब अपने संघर्ष भरे सफर की शुरूआत में अनिल अपने लिए काम ढूँढ रहे होते थे। तब उनके दोस्त उनके विवाह के लिये लडकी ढूँढ रहे होते थे। उस समय सुनीता एक सफल मॉडल थी। अनिल फिल्मी दुनिया में उस समय अपने पैर जमाने की कोशिश कर रहे थे। एक दिन मित्रों के द्वारा ही अनिल को सुनीता का फोन नम्बर मिला। जब अनिल की सुनीता से फोन पर बातचीत हुई तो दोनों ने मिलने का प्रोग्राम बनाया। पहली डेट पर मिलने पर ही अनिल और सुनीता एक दूसरे की तरफ आकर्षित हो गये और उन दोनों के दिल में एक दूसरे के लिए प्रेम भाव जाग्रत हो गया।

उन दोनों को एक साथ समय बिताना अच्छा लगने लगा। सुनीता के पिता बैंक में अफसर थे। उनको यह रिश्ता नापसंद था।
उसी समय अनिल कपूर को वो सात दिन नामक फिल्म मिली जिससे कि अनिल की पहचान बनने लगी। तब उनका नाम निर्माता, निर्देशक आदि पहचानने लगे थे।

कुछ समय बाद मशाल फिल्म आई जिसके हिट होते ही अनिल कपूर दर्शकों के दिलो दिमाग में अपनी जगह बनाने में कामयाब हुये। कुछ प्रयासों के बाद सन 1984 में अनिल और सुनीता की शादी हो गयी।

अनिल के कैरियर को सपोर्ट करने के लिए सुनीता ने अनेक प्रयास किये। सुनीता ने अपना कैरियर छोडकर अनिल के जीवन में सफल कैरियर बनाने के लिए अपनी जिम्मेदारी को समझा और पूर्ण रूप से निभाया।

anil Kapoor Kapur Film star

अभिनेता अनिल कपूर

अनिल कपूर का फिल्मी सफर —

अनिल कपूर के तीन बच्चें हैं। सोनम कपूर, रिया कपूर व हर्षवर्धन कपूर। अनिल दो बेटी और एक बेटे के पिता हैं। अनिल कपूर ने बहुत सी हिट और सुपरहिट फिल्मों में काम किया है। उनके जीवन की सुपरहिट फिल्मों की असाधारण उपलब्धियों में से कुछ हैं ~ रेस 2, तेजाब, युवराज, तेज, वैलकम, नो एन्ट्री, रिश्ते, पुकार, ताल, रामलखन, हम आपके दिल में रहते हैं, जुदाई, बीबी नं 1, रूप की रानी चोरों का राजा, जिंदगी एक जुआ, ईश्वर, रामलखन, मि इण्डिया। अनिल कपूर की बढती हुई सुपरहिट फिल्मों के साथ ही उन्हें मिलने वाले अवार्ड की संख्या में भी बढोत्तरी होती चली गयी।

पुकार फिल्म के लिए अनिल को 2001 में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार मिला 2008 में स्पेशल ज्यूरी अवार्ड मिला। 1989 सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार मिला। फिल्म तेजाब के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का अवार्ड मिला। सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता का पुरस्कार बीबी नं 1 के लिए मिला। 2000 में ताल फिल्म के लिए सर्वश्रेष्ठ सह अभिनेता का पुरस्कार मिला। बेटा फिल्म के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का अवार्ड मिला और भी अन्य अनेक अवार्ड उन्हें मिले। अपने वक्त की सुपरहिट इन अनेक फिल्मों ने अनिल कपूर का नाम फिल्मी दुनिया के रूपहले जगत में सुनहरी अक्षरों से लिख डाला।

अनिल कपूर फिल्मी दुनिया के बेताज बादशाह कहे जाते हैं। अनिल इतने दिलचस्प और बेहतर कलाकार हैं कि उन्होने तरेसठ साल की उमर में बढती आयु को पीछे धकेल कर स्वयं को जवानों की श्रेणी में ला खडा कर दिया है। अनिल आज भी नवजवान नवयुवकों जैसी चुस्ती फुर्ती से अपने व्यक्तिव को शानदार बनाये हुए हैं। अनिल आज भी आने वाले कलाकारों के लिए आदर्श मिसाल बने हुये हैं। फिल्मी दुनिया में शानदार और सफल वैवाहिक जीवन बिताने वाले अनिल और सुनीता पिछले 45 सालों से एक साथ हैं।

उनका रिश्ता आज भी उतना ही प्रेमभरा और मजबूत है जितना कि आज से पैतीस साल पहले था। अनिल के अनुसार सुनीता उनके घर की बाँस है। अनिल अपने बच्चों के साथ हमेशा दोस्ती जैसा व्यवहार करते हैं। अनिल ने अपने बच्चों को कभी चिल्लाया या डाँटा नहीं है। उनकी इन्हीं आदतों के कारण उनकी पत्नी सुनीता उन्हें शुतुरमुर्ग कहकर पुकारती हैं। \

अपनी आदतों के कारण अनिल को अपनी पत्नी सुनीता से डाँट भी बहुत पडती है। किंतु उन दोनों का प्यार इतना गहरा है कि उनका परिवार हमेशा हँसता, खिलखिलाता नजर आता है। अनिल का परिवार मिलनसार एवं हँसमुख परिवार है। उन्हें लोगों, मित्रों का घर आना और उनकी मेहमानदारी करना अच्छा लगता है। सुनीता एक कुशल गृहणी के जैसे घर सम्हालती हैं। वे अनिल की पसन्द का भोजन बनाती है। सुनीता वह सब कुछ करती हैं जो अनिल को पसन्द है।

अभी अनिल फिलहाल मलंग के प्रमोशन में व्यस्त हैं। दिशा पाटनी, आदित्य राय कपूर, कुणाल खेमु जैसे कलाकारों के साथ मोहित सूरी के निर्देशन में मिलकर फिल्म बनाई है जो एक थ्रिल कही जा सकती है। यह मलंग फिल्म सात फरवरी को रिलीज हुई।

सीमा गर्ग मंजरी, मेरठ

Share this:
Chamcha Chamche
रोचक2 months ago

चमचों की दुनिया – वैज्ञानिक सोच होती है चमचों की, इनसे बचना मुश्किल है।?

Veer Bavsi Mandir
विविध2 months ago

वीरों की भूमि राजस्थान में वीर भगवान के मंदिर स्थानीय स्तर पर आस्था व विश्वास के प्रतीक है।

Rajasthan Marwadi Churma
My Blog2 months ago

व्यंग्य – परम्परागत मारवाड़ी चूरमे की कहानी व कहानी के खास सबक, खास अंदाज में।

Hindi Sahitya Vyngya
My Blog2 months ago

एक व्यंग्य – हम बैंगन में भी कोई न कोई इम्युनिटी बताकर बेच सकते है। ??

Road Highway Sadak
साहित्य3 months ago

एक व्यंग्य – कोरोना तेरा नाश हो, कमबख़्त किसी को मुँह दिखाने लायक नहीं छोड़ा।

Corona Virus Covid 19
विविध3 months ago

कोरोना (Coronavirus Covid 19) से बचने के उपाय – हमें अपनी जीवनशैली में आवश्यक बदलाव करना ही होगा।

Rajasthani Roti
देश विदेश3 months ago

अप्रैल, मई व जून माह रहती है राजस्थान में रौनक – इस साल न मेले, न प्रतिष्ठा, न शादी ब्याह न पकवानों की महक।

Mother s Day Maa
My Blog3 months ago

मदर्स-डे !! – माँ शब्द के मायने क्या है? मेरे लिए ‘माँ’ हर युग में सिर्फ ‘माँ’ है।

Roti Sabji Sapati
रोचक3 months ago

रोचक आप बीती घटना – जीवन में छोटी छोटी घटनाओं का महत्व है।

Dhanraj Mali Rahi
साहित्य3 months ago

साहित्य (व्यंग्य) – एक शराबी की आप बीती।

Trending